DU के छात्रों का भविष्य संकट में

DU के छात्रों का भविष्य संकट में
Please Share On....

नई दिल्ली।दिल्ली विश्वविद्यालय के हज़ारों छात्रों का भविष्य अब संकट में पड़ सकता है, और इसका कारण है डीयू के शिक्षकों का परीक्षा कॉपियां चेक न करना । डीयूटीए यानि दिल्ली यूनिवर्सिटी टीचर्स एसोसिएशन का युजीसी के खिलाफ विरोध तो काफी समय से चल रहा है और इस बार वे परीक्षा की कॉपियों का मूल्यांकण न करके अपने विरोध जाता रहे हैं। ऐसे में हज़ारों छात्रों को एमए, एमबीए जैसे कोर्सों और दूसरे विश्वविद्यालयों में दाख़िला लेने में समस्या आ रही है।

बता दें की दिल्ली विश्वविद्द्यालय में पढ़ा रहे लगभग 60 प्रतिशत शिक्षक कई वर्ष काम करने के बाद भी एडहॉक बेसिस पर हैं। शिक्षकों की मांग है कि सालों से काम कर रहे एडहॉक शिक्षकों को नियमित किया जाए। शिक्षकों ने डिपार्टमेंट वाइज़ रोस्टर बनाने के आदेश को वापस लिये जाने की और डीयू को स्वायत्त नहीं किये जाने की भी मांग की है। इस मांग के कारण आरक्षित शिक्षकों की सीटों में भारी कटौती होगी।

मूल्यांकन न होने से डीयू के लगभग 1.5 लाख छात्र प्रभावित हैं, पर इसका सबसे ज़्यादा असर फ़ाइनल इयर के लगभग 50,000 छात्रों पर पड़ा है। आगे पढ़ने के लिए फ़ाइनल इयर के छात्रों को दूसरे विश्वविद्दालयों में दाखिला लेना है लेकिन शिक्षकों की हड़ताल के चलते तब तक उनका रिज़ल्ट ही नहीं आ पाएगा। वहीं दूसरी तरफ़ बाकी छात्रों को सत्र देरी से शुरू होने का डर सता रहा है। छात्रों का कहना है कि मैनेजमेंट और शिक्षकों के बीच की लड़ाई में उनका भविष्य ख़तरे में पड़ गया है।

हालाँकि डीयू प्रशासन नियमों का हवाला देकर शिक्षकों को कॉपियां चेक करने के लिए पत्र लिख रहा है, लेकिन शिक्षकों का कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होतीं तब तक वे कॉपियां नहीं जांचेंगे।

Source- NDTV India

Image- DU Express


Please Share On....

Tabina Ofaque

The author didn't add any Information to his profile yet.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked. *