आध्यात्मिक गुरु भय्यू जी महाराज ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में पारिवारिक तनाव बताया कारण

आध्यात्मिक गुरु भय्यू जी महाराज ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में पारिवारिक तनाव बताया कारण
Please Share On....

नई दिल्ली। अाध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज ने मंगलवार को खंडवा रोड स्थित आवास पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। जानकारी के मुताबिक भय्यूजी महाराज ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से अपने सिर में गोली मारी। गोली की आवाज सुनते ही लोग उनके कमरे की ओर दौड़े और घायल अवस्था में उन्हें अस्पताल ले गए जहाँ इलाज के दौरान उन्ही मृत्यु हो गयी। इंदौर के बॉम्बे अस्पताल ने उनकी मौत की पुष्टि की है। खुदकुशी के पीछे पारिवारिक कारण बताये जा रहे हैं।

भय्यूजी महाराज के मौत के बाद छानबीन में पुलिस को उनका सुसाइड नोट भी मिला है। सुसाइट नोट में लिखा है, “पारिवारिक जिम्मेदारियाँ को संभालने के लिए किसी को वहां होना ज़रूरी है। मैं बेहद परेशानी में हूं और तनाव के साथ ही जा रहा हूं। ”

हालाँकि उन्हें आध्यात्मिक गुरु के रूप में ही जाना जाता रहा, लेकिन मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह ने हाल ही में उनको राज्यमंत्री का दर्जा भी दिया था। भय्यूजी महाराज की मौत पर शिवराज सिंह के साथ साथ बीजेपी और कांग्रेसी नेताओं ने भी गहरा शोक जताया।

बता दें कि भय्यूजी महाराज 2011 में चर्चा में आये थे जब अन्ना आंदोलन के समय उन्होंने सरकार के साथ बातचीत में और अनशन ख़त्म कराने में बड़ी भूमिका निभाई थी। 2011 में नरेंद्र मोदी की सद्भावना यात्रा में जारी उपवास को भैय्युजी महाराज ने ही जूस से तोड़वाया था।

भय्यू महाराज को मॉडर्न और राष्ट्रीय संत माना जाता था। 1968 को जन्मे भय्यू महाराज का असली नाम उदयसिंह देखमुख था। कभी कपड़ों के एक ब्रांड के लिए मॉडलिंग करने वाले भय्यू महाराज अब गृहस्थ संत थे। सदगुरु दत्त धार्मिक ट्रस्ट उन्होंने ही स्थापित किया था जो आज भी कई स्तरों पर सक्रिय है। उन्होंने हाल ही में 49 साल की उम्र में दूसरी शादी की थी। उनकी पहली पत्नी माधवी का दो साल पहले निधन हो चुका था जिससे उन्हें एक बेटी भी है।

Source- NDTV


Please Share On....

Tabina Ofaque

The author didn't add any Information to his profile yet.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked. *