बुराड़ी के घर से मिले 11 शव, मोक्ष के लिए लगाया मौत को गले!

बुराड़ी के घर से मिले 11 शव, मोक्ष के लिए लगाया मौत को गले!
Please Share On....

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहाँ रविवार को बुराड़ी के एक घर से एक ही परिवार की 11 लाशें मिली हैं। इनमे से 10 शव लटके हुए मिले है और एक बुजरुग महिला का शव दुसरे कमरे से मिला है। इन लाशों में 7 महिलाएं और 4 पुरूष हैं। हालाँकि मामले में जुटी पुलिस को शक था कि इन लोगों ने आत्महत्या की है। लेकिन दुसरे कमरे से मिले 2 रजिस्टरों के मिलने के बाद यह राज और गहरा गया है।

धर्मांधता का शिकार हुआ परिवार?

जांच के दौरान पुलिस ने एक कमरे से 2 रजिस्टर बरामद किए हैं। दोनों रजिस्टरों में हाथ से लिखे कई पेज हैं जिन पर धार्मिक रहस्यमयी बातें लिखी हैं। पुलिस का कहना है कि मौत के तरीके और रजिस्टरों में लिखी बातों में काफी समानता मिल रही है। जांच टीम अब ऐसी आशंका जता रही है कि पूरा परिवार किसी तरह के धार्मिक-आध्यात्मिक चक्कर में फंसा था। अनुमान है कि पूरे परिवार ने मोक्ष हासिल करने की कामना से कुछ खास धार्मिक रीतियों से खुदकुशी की है।

पुलिस का कहना है कि परिवार के सदस्यों के शव भी उन्ही हालत में मिले हैं, जैसा रजिस्टर में लिखा है। लगभग सभी के हांथ बंधे थे और आंखों पर पट्टी बंधी थी। जैसे रजिस्टर में लिखा हुआ है, “रात्रि के 12 से 1 के बीच क्रिया करनी हैं, उसके पहले हवन करना है। इससे आप को मोक्ष की प्राप्ति होगी।” पड़ोसियों और जान-पहचान वालों से भी पता चला है कि यह परिवार काफी धार्मिक प्रवृत्ति का था।

जांच में जुटी क्राइम ब्रांच

बहरहाल, इस बीच मामले की जांच पुलिस से क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है। अब तक की जांच में पता चला है कि घर के ही तीन सदस्यों ने पहले खुदकुशी की योजना बनाई थी। बाद में इन्हीं तीनों ने परिवार के शेष सदस्यों की हत्या का भी फैसला किया। तीनों ने रात के खाने में नशीला पदार्थ मिलाकर घर के बाकी सदस्यों को बेहोश कर दिया। उसके बाद सभी के हाथ-पैर बांधे और मुंह पर पट्टी बांधकर उन्हें फांसी के फंदे पर लटका दिया। घर की सबसे बुजुर्ग सदस्य 75 वर्षीय नारायणा की गला दबाकर हत्या की गई। इस बीच नारायणा की विधवा बेटी 58 वर्षीय प्रतिभा को होश आ गया, जिसके चलते उनकी गला रेतकर हत्या कर दी गई। फिर उन्हें फांसी पर लटका दिया गया।

पुलिस को घर के अंदर से एक अधूरा सुसाइड नोट भी मिला है, जिस पर हत्या के बारे में कुछ अधूरा सा लिखा है। अनुमान है कि हत्या की साजिश रचने वाले तीन सदस्यों ने सुसाइड नोट लिखने का फैसला किया लेकिन बाद में किसी कारन वश यह योजना रद्द कर दी। जांच में घर के अंदर किसी तरह के संघर्ष के निशान नहीं मिले हैं। साथ ही CCTV फुटेज से पता चला कि बीती रात घर के अंदर कोई बाहरी व्यक्ति नहीं गया ।

बता दें कि बुराड़ी के संत नगर में गली नंबर 24 में स्थित एक मकान में रविवार की सुबह एक ही परिवार के सभी 11 सदस्यों की मौत के बाद इलाके में सनसनी फैल गई। सबसे पहले पड़ोसी गुरचरण सिंह ने लाशें देखीं, जो दुकान न खुलने के चलते परिवार को देखने घर में घुसे थे। मकान का मेन गेट खुला हुआ था।

मृतकों में घर की सबसे बुजुर्ग सदस्य 75 वर्षीय नारायणा के अलावा नारायणा की सबसे बड़ी 60 साल की विधवा बेटी प्रतिभा, प्रतिभा की 30 साल की बेटी प्रियंका, मां नारायणा का बड़ा बेटा 46 वर्षीय भूपि, भूपि की पत्नी 42 वर्षीय सविता, भूपि की 24 वर्षीय बेटी नीतू, भूपि की छोटी बेटी 22 वर्षीय मीनू, भूपि का सबसे छोटा बेटा 12 वर्षीय धीरू, मां नारायणा का छोटा बेटा 42 वर्षीय ललित, ललित की पत्नी 38 वर्षीय टीना, ललित का 12 साल का एक बेटा शामिल है।

 


Please Share On....

Tabina Ofaque

The author didn't add any Information to his profile yet.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked. *