इफ्तार पार्टी के ज़रिये कांग्रेस और विपक्ष ने 2019 चुनावों के लिए दिखाया साथ

इफ्तार पार्टी के ज़रिये कांग्रेस और विपक्ष ने 2019 चुनावों के लिए दिखाया साथ
Please Share On....

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अध्यक्ष बनने के बाद पहली इफ्तार पार्टी का आयोजन किया। पार्टी का आयोजन बुधवार को दिल्ली के ताज होटल में किया गया। राहुल की इफ्तारी में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा पाटिल, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी भी शामिल हुए। धार्मिक और सियासी जमावड़े के साथ विपक्ष के नेताओं ने भी पार्टी में शिरकत की। इफ्तार पार्टी के जरिये कांग्रेस ने विपक्षी एकजुटता दिखाने की भरपूर कोशिश की। सबकी नजर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी पर रही।

यह राहुल गांधी की आधिकारिक तौर पर कांग्रेस पार्टी की कमान संभालने के बाद पहली इफ्तार पार्टी थी । कर्नाटक विधानसभा चुनाव और 2019 लोकसभा चुनाव को देखते हुए उम्मीद भी थी कि इफ्तार पार्टी में विपक्षी दल के प्रमुख नेता हिस्सा लेंगे। लेकिन इसमें कई दिग्गज नदारद रहे।

राहुल गांधी की इफ्तार पार्टी में शामिल नहीं होने वाले नेताओं में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता व जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, आरएलडी के अजीत सिंह, बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बसपा सुप्रीमो मायावती हैं।

हालाँकि पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि इफ्तार का कार्यक्रम कुछ दिन पहले ही तय होने की वजह से ही वरिष्ठ नेता नहीं आ पाए। खबर है कि राहुल ने इस पार्टी में दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल को नहीं बुलाया था। ऐसे में अगर कहा जाए कि राहुल गांधी की इफ्तार में ‘विपक्षी एकता’ को झटका लगा है, तो गलत नहीं होगा। हालांकि ये भी नहीं कहा जा सकता कि राहुल की इफ्तार फ्लॉप रही।

जदयू के पूर्व नेता शरद यादव, एनसीपी के नेता दिनेश त्रिवेदी और डीएमके की सांसद कनिमोझी के साथ साथ माकपा महासचिव सीताराम येचुरी राहुल की इफ्तार पार्टी में पहुंचे। कांग्रेस के दिग्गजों में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी के अलावा गुलाम नबी आजाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, जर्नादन द्विवेदी, मोतीलाल वोरा, आनंद शर्मा, दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित, मोहसिना किदवई आदि मौजूद थी। जबकि पार्टी के युवा चेहरों में शशि थरूर, दीपेंद्र हुड्डा, युवा कांग्रेस के अध्यक्ष केशव यादव आदि दिए। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू और हरियाणा कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर भी इफ्तार के दौरान खास सक्रिय नजर आए।

इस इफ्तार पार्टी में कांग्रेस की ओर से 18 राजनीतिक दलों के नेताओं को न्योता दिया गया था। कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल की यह पहली इफ्तार पार्टी है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इस पार्टी से विपक्षी एकजुटता की जमीन मजबूत होगी। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष रहने के दौरान सोनिया गांधी ने 2015 में इफ्तार का आयोजन किया था।


Please Share On....

Tabina Ofaque

The author didn't add any Information to his profile yet.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked. *